कोरोना संक्रमण ने यूपी में पूर्व के सारे रिकाॅर्ड तोड़ दिए हैं। गुरुवार को 8,490 नए मामलों के साथ यह भयावह स्थिति में पहुंच गया। प्रदेश में कोरोना संक्रमण के इतिहास में एक दिन में मिलने वाले केसों की यह सबसे बड़ी संख्या है। इससे पूर्व पिछले वर्ष 11 सितम्बर को एक दिन में सबसे अधिक 7,103 नए केस मिले थे। हालांकि कोरोना से होने वाली मौतों के मामले में गुरुवार को मामूली राहत दिखी। गुरुवार को प्रदेश में 39 लोगों की कोरोना संक्रमण से मौत हो गई जबकि बुधवार को यह संख्या 40 थी।  

अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में कोरोना जांच करने की क्षमता बढ़ायी गयी है। बीते एक दिन में कुल 2,04,878 सैम्पल की जांच की गई है। प्रदेश में अब तक कुल 3,61,47,340 सैम्पल की जांच की जा चुकी है। प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना से संक्रमित मिले 8,490 नए मामले में से 50 प्रतिशत से अधिक केस लखनऊ, प्रयागराज, वाराणसी और कानपुर नगर से आए हैं। प्रदेश में 39,338 कोरोना के सक्रिय मामलों में 22,904 लोग होम आइसोलेशन में हैं। उन्होंने यह भी बताया कि गुरुवार को 1084 लोगों को कोरोना से ठीक होने पर डिस्चार्ज किया गया है। इस प्रकार से प्रदेश में अब तक 6,06,063 लोग कोविड-19 से ठीक होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं। 

फोकस टीकाकरण के तहत मीडिया कर्मियों को लगे टीके
अमित मोहन ने बताया कि फोकस वैक्सीनेशन के तहत गुरुवार को मीडिया कर्मियों को टीके लगाए गए। टीकाकरण का यह विशेष अभियान शुक्रवार को भी जारी रहेगा। उन्होंने बताया कि अगले सप्ताह से सरकारी एवं निजी प्रतिष्ठानों में वैक्सीनेशन का कार्य किया जाएगा। प्रदेश में 45 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोगों का कोविड वैक्सीनेशन किया जा रहा है। अब तक 66,88,260 लोगों को वैक्सीन की पहली डोज तथा 11,79,437 लोगों को वैक्सीन की दूसरी डोज दी गई हैं। इस प्रकार कुल 78,67,697 लोगों को वैक्सीन की डोज दी जा चुकी है।

सावधानी बेहद जरूरी
अपर मुख्य सचिव ने कहा कि कोविड संक्रमण की रफ्तार को देखते हुए सावधान रहना अत्यंत जरूरी है। मास्क का प्रयोग समाज के प्रति जिम्मेदारी व सामाजिक उत्तरदायित्व का पालन है। हमें यह समझना होगा कि संक्रमण अभी समाप्त नहीं हुआ है इसलिए विशेष सावधानी बरतने की आवश्यकता है। टीकाकरण के बाद भी कोविड प्रोटोकाल का पालन अवश्य करें। अपने हाथ को साबुन-पानी से निरन्तर धोते रहें। भीड़-भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें। उन्होंने कहा कि घर के बड़े-बुजुर्गों का टीकाकरण अवश्य कराएं। 

मोहल्ला निगरानी समितियां फिर सक्रिय
संक्रमण नियंत्रित करने के लिए शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में ग्राम निगरानी समिति, मोहल्ला निगरानी समितियों को पुनः सक्रिय किया गया है। इन समितियों के माध्यम से संक्रमण वाले प्रदेशों से आने वाले लोगों की पहचान कर, उनसे संक्रमण की जानकारी लेते हुए आवश्यक कार्यवाही की जा रही है। अपर मुख्य सचिव प्रदेश के बाहर से आने वाले लोगों से अपील की है कि वे अपनी सामाजिक जिम्मेदारी समझें और घर में ही कुछ दिन व्यतीत करे। संक्रमण का कोई भी लक्षण दिखाई देने पर कोविड-19 की जांच अवश्य कराएं। इससे स्वयं को और अपने परिवार को कोविड-19 से सुरक्षित किया जा सकेगा।