देशभर में कोरोना का खौफनाक मंजर फैला हुआ है. कोरोना ने पिछले सारे रिकॉर्ड तोड़ते हुए पूरे देश में तबाही मचा रखी है. आज 1 लाख 26 हजार से ज्यादा नए मामले सामने आए हैं. पिछले 24 घंटे में 685 मौतें दर्ज की गई हैं. इसी के चलते देश के कुछ शहरों में टोटल लॉकडाउन तो ज्यादातर जगह नाइट कर्फ्यू लगाया जा चुका है. उत्तर प्रदेश में 8400 से ज्यादा नए मामले सामने आए हैं, इसी के चलते आज से नोएडा-गाजियाबाद समेत अन्य शहरों में नाइट कर्फ्यू का फैसला किया गया है. नोएडा-गाजियाबाद में स्कूल-कॉलेज समेत अन्य शिक्षण संस्थान 17 अप्रैल तक बंद कर दिए गए हैं. देश भर के कोरोना से जुड़े सभी अपडेट्स के लिए इस पेज पर बने रहें.

Coronavirus Live Updates in IndiaCoronavirus Live Updates

सर गंगाराम के 37 डॉक्टर संक्रमित

दिल्ली के प्रतिष्ठित सर गंगाराम अस्पताल के 37 डॉक्टर कोरोना संक्रमित पाए गए हैं. इन  सभी डॉक्टरों को टीका लग चुका है. 32 डॉक्टर होम क्वारटाइन में हैं जबकि 5 को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

हम टीका उत्सव मनाएंः PM मोदी

इंडस्ट्रियल एरिया में लगे वैक्सीन कैंप

कोरोना के बढ़ते मामले के बीच फिर लॉकडाउन की आहट को देखते हुए लोगों का पलायन शुरू हो गया है. दिल्ली में इंडस्ट्री के मालिकों ने प्रवासी मज़दूरों के पलायन की आशंका जताई तो रेलवे ने पलायन को निराधार बताया. मायापुरी इंडस्ट्रियल वेलफेयर एसोसिएशन के जनरल सेक्रेटरी नीरज सहगल ने बताया कि नाइट कर्फ्यू के बाद से ही प्रवासी मजदूरों में डर का माहौल है. लेबर के मन में डर है कि लॉकडाउन कभी भी हो जाएगा. लिहाजा उनमें अफरा-तफरी है. दावा है कि मजदूर पलायन भी कर रहे हैं. सहगल ने सरकार से मांग की है कि इंडस्ट्रियल एरिया में लेबर को वैक्सीन लगने के लिए सरकार की तरफ से कैंप लगाए जाने चाहिए, जिससे कि प्रवासी मजदूरों को भरोसा दिलाया जा सके कि मजदूर पूरी तरह से सुरक्षित हैं. तो वहीं ओखला चैबर ऑफ इंडस्ट्रीज के चैयरमैन अरुण पोपली ने कहा कि मजदूर बहाना बनाकर जाने लगे हैं. अधिकतर उद्योगों में रात में ही काम होता है. ऐसे में नाइट कर्फ्यू से बिजनेस चौपट हो जाएगा. 7:4

दिल्लीः HC में फिजिकल सुनवाई बंद

राजधानी दिल्ली में करोना के बढ़ते मामलों के चलते दिल्ली हाई कोर्ट ने बड़ा फैसला लिया है. कल शुक्रवार से हाई कोर्ट और दिल्ली की सभी जिला अदालतों में फिजिकल सुनवाई बंद कर दी गई है. दिल्ली हाई कोर्ट और दिल्ली की सभी जिला अदालतों में 23 अप्रैल तक सुनवाई वर्चुअल मोड में ही होगी.