आजमगढ़ में मंगलवार को मास्क न लगाने पर एक सराफा व्यवसायी को दुकान से खींचकर पुलिस ने पीटा। अपराधियों की तरह व्यापारी को पुलिस जीप में भरकर थाने ले गई। घटना के विरोध में व्यापारियों ने चौक व सराफा मंडी बंद कर कोतवाली के बाहर धरना शुरू कर दिया तो लाठीचार्ज कर उन्हें खदेड़ दिया गया।  व्यापारी के साथ हुई पुलिसिया करतूत का वीडियो वायरल होते ही सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने भी सरकार पर निशान साधा। अखिलेश ने लिखा कि आज़मगढ़ में एक सर्राफा व्यापारी से मास्क न लगाने पर पुलिस ने जो हाथापाई व बदसलूकी की है, वो निंदनीय है। इससे व्यापारी समाज में आक्रोश फैल गया है। मास्क न लगाने पर जुर्माना वसूलने की जगह मारपीट का अधिकार क्या चुनावों में बिना मास्क की रैली करने वाले स्टार प्रचारक जी ने दिया है।

यह है मामला
मंगलवार सुबह एसडीएम सदर गौरव कुमार व सीओ सिटी राजेश तिवारी कोतवाली पुलिस के साथ चौक पर मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग चेक कर रहे थे। इस बीच अधिकारी पुलिसकर्मियों के साथ पुरानी कोतवाली के आसिफगंज मोहल्ले के सराफा व्यवसायी आशीष गोयल की दुकान पर पहुंचे। वहां मास्क को लेकर आशीष गोयल और अधिकारियों के बीच सवाल-जवाब होने लगा। इसी बीच अफसरों के इशारे पर पुलिसकर्मी आशीष को उनकी दुकान से पीटते बाहर लेकर आ गए।

आशीष को धकियाते और पीटते हुए अपराधियों की तरह पुलिसकर्मी कोतवाली तक लेकर चले गए। सूचना मिलते ही आसपास के दुकानदार इकट्ठा हो गए। पुलिसकर्मियों के इस व्यवहार से नाराज व्यवसायियों ने सराफा बाजार बंद कर दिया। थोड़ी ही देर में बड़ी संख्या में व्यापारी कोतवाली पहुंच गए। दोपहर सवा बारह बजे तक कोतवाली में सपा, कांग्रेस व एसडीएम से पहले से नाराज कुछ संगठन जमा होकर धरने पर बैठ गए। जानकारी मिलते ही डीएम राजेश कुमार व एसपी सुधीर कुमार वहां आए और लोगों को समझाने में जुटे रहे। शाम लगभग पांच बजे किसी ने बाहर से कुछ पत्थर फेंके जिससे चार पुलिसकर्मियों को चोटें लगीं। इसके बाद आक्रोशित पुलिस ने लाठीचार्ज कर सभी को तितर-बितर कर दिया। उधर, आशीष गोयल व अन्य व्यापारी सीओ व एसडीएम पर कार्रवाई की मांग पर अड़े हैं। बड़े अधिकारी उन्हें मनाने में जुटे हैं।