होली से पहले महाराष्ट्र में ‘नाइट कर्फ़्यू’, दिल्ली में ‘मिनी लॉकडाउन’
जनसत्ता अख़बार के अनुसार राजधानी दिल्ली में होली और शब-ए-बारात जैसे त्योहारों के मद्देनज़र ‘मिनी लॉकडाउन’ लगाया गया है.

देश में एक बार फिर कोरोना के मामलों को देखते हुए सतर्कता बढ़ा दी गई है. दिल्ली सरकार की तरफ़ से नई गाइडलाइंस जारी की गईं हैं.

वहीं, अब गुजरात सरकार ने भी राज्य में बाहर से आने वाले लोगों के लिए आरटी-पीसीआर टेस्ट अनिवार्य कर दिया है.

देश में महाराष्ट्र, पंजाब, छत्तीसगढ़, कर्नाटक और गुजरात में कोरोना के मामलों में काफ़ी तेज़ी देखी जा रही है. दिल्ली में लगातार तीसरे दिन 1500 से ज़्यादा नए मामले सामने आए हैं.

दिल्ली सरकार ने शादी समारोह में अब अधिकतम लोगों की संख्या घटाकर 100 कर दी है.

ये नियम बंद जगहों पर होने वाले कार्यक्रमों पर लागू होगा. खुली जगहों पर होने वाले विवाहों में 200 लोग इकट्ठा हो सकते हैं.

अंतिम संस्कार में 50 लोग शामिल हो सकते हैं. इसके अलावा थर्मल स्कैनिंग हैंड वॉश या सैनिटाइज़र के बाद ही लोगों को प्रवेश दिया जाएगा.

हालंकि दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने शनिवार को साफ़ कहा कि सरकार लॉकडाउन लगाने के बारे में नहीं विचार कर रही है.

देश में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर तेज़ी से फैल रही है. शनिवार को जारी आंकड़ों के अनुसार एक दिन में 62 हज़ार से अधिक मामले दर्ज किए गए और 91 लोगों की जान गई.

अख़बार इंडियन एक्सप्रेस में छपी ख़बर में बताया गया है कि दूसरी लहर पहली लहर की तुलना में ज़्यादा ख़राब हो सकती है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि दूसरी लहर में संक्रमण जिस तेज़ी से फैल रहा है वो चौंकाने वाला है. शनिवार को 62 हज़ार से ज़्यादा मामले सामने आए जबकि केवल 10 दिनों पहले तक यह संख्या 30 हज़ार से कम थी.

पिछली बार यानी कि पहली लहर में रोज़ाना के क़रीब 30 हज़ार मामलों से रोज़ाना 60 हज़ार पहुँचने में 23 दिन लगे थे.

हालांकि देश में टीकाकरण जारी है और अब तक क़रीब छह करोड़ लोगों को टीके लगाए जा चुके हैं. सरकार ने फ़ैसला किया है कि एक अप्रैल से 45 साल से ऊपर के लोगों को भी वैक्सीन दी जाएगी.