पूर्व केंद्रीय गृह-राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद को यौन उत्पीड़न के आरोप से बरी कर दिया गया है.

विशेष एमपी-एमएलए कोर्ट ने शुक्रवार को साक्ष्यों के अभाव में उन्हें बरी कर दिया.

चिन्मयानंद पर उन्हीं के लॉ कॉलेज में पढ़ने वाली एलएलएम की छात्रा ने यौन उत्पीड़न का मामला दर्ज कराया था, लेकिन पिछले दिनों सुनवाई के दौरान कोर्ट में वे अपने आरोप से मुकर गई थीं.

कोर्ट ने चिन्मयानंद पर रेप का आरोप लगाने वाली लड़की को भी बरी कर दिया.

लड़की पर चिन्मयानंद को ब्लैकमेल करके पाँच करोड़ रुपये की रंगदारी माँगने का आरोप था.

इस मामले में चार अन्य अभियुक्तों को भी बरी कर दिया गया.