• हजीरा से 5 फरवरी को नाबालिग छात्रा को लेकर भागा था युवक
  • पिता को हार्ट स्पेशलिस्ट, मां को बताया था डॉक्टर, सब निकले फर्जी

सिंधिया स्कूल के पास मैदान में क्रिकेट खेल रहे एक लड़के ने जब चौके, छक्के मारे तो वहीं मैच देख रही एक 12वीं की छात्रा इंप्रेस हो गई। लड़के ने खुद को UP की स्टेट टीम का प्लेयर बताया। यह भी कहा कि उसके पिता लखनऊ के बहुत बड़े हार्ट स्पेशलिस्ट हैं और मां भी डॉक्टर है। इसके बाद वह अपने साथ छात्रा को भगा ले गया। जब छात्रा लखनऊ पहुंची तो उसे हकीकत का पता लगा। युवक ने सारी बातें झूठ कहीं थीं। आरोपी ने उसे बंधक बनाकर दुष्कर्म किया। दो दिन पहले पुलिस ने छात्रा को नेपाल बॉर्डर पर UP के बलरामपुर जिले के सरदारगढ़ से बरामद किया है। आरोपी को भी गिरफ्तार किया गया है।

हजीरा क्षेत्र से 5 फरवरी को एक 17 वर्षीय छात्रा लापता हुई थी। छात्रा के परिवार ने हजीरा थाना पहुंचकर सूचना दी थी। जिस पर पुलिस ने अपहरण का मामला दर्ज कर जांच शुरू की। छात्रा की कॉल डिटेल से पता लगा था कि वह नेपाल बॉर्डर पर UP के बलरामपुर जिले के सरदारगढ़ निवासी राजन शुक्ला उर्फ भूपेन्द्र मणि के संपर्क में है। इस पर पुलिस ने दो से तीन बार दबिश दी, लेकिन न राजन शुक्ला मिला न ही नाबालिग छात्रा। अभी दो दिन पहले SI अनिता भिलाले, SI नरेन्द्र छिकारा, ASI शैलेन्द्र सिंह चौहान की टीम ने दबिश देकर नेपाल बॉर्डर से छात्रा को मुक्त कराया था। छात्रा से पूछताछ के बाद आरोपी भूपेन्द्र मणि को भी गिरफ्तार कर लिया गया है। छात्रा ने बताया है कि आरोपी ने उसे धोखे में रखकर झूठी शादी की और कई बार दुष्कर्म किया। पुलिस ने आरोपी पर अपहरण व दुष्कर्म का मामला दर्ज किया है।

हार्ट स्पेशलिस्ट पिता निकला झोलाछाप

छात्रा ने पुलिस को बताया कि भूपेन्द्र ने उसे खुद को क्रिकेटर बताया था। बोला था वह इंटरनेशनल क्रिकेटर दिनेश मोगिया की अकादमी में चंडीगढ़ से सीखा है और यूपी की स्टेट टीम में सिलेक्ट हुआ है। यह फेक था। पिता को हार्ट स्पेशलिस्ट बताया था और मां को डॉक्टर। बाद में पता लगा कि उसकी मां डॉक्टर नहीं घरों में काम करती है। जिस पिता को हार्ट स्पेशलिस्ट बताया वह झोलाछाप डॉक्टर है।