उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले के कप्तानगंज थाने से बर्खास्त सिपाही दिग्विजय राय ने गोरखपुर में तीन हत्या करने की चुनौती देकर सनसनी फैला दी। सोशल मीडिया पर तेजी से वीडियो वायरल होने लगा जिसके बाद सिरफिरे सिपाही की सरगर्मी से तलाश शुरू कर दी गई।
विज्ञापन

कैंट पुलिस ने मोहद्दीपुर चौकी इंचार्ज की तहरीर पर धमकी देने और आईटी एक्ट की धारा में केस दर्ज कर तलाश शुरू कर दी है। उसकी तलाश में क्राइम ब्रांच को भी लगाया गया है। साइबर सेल और सर्विलांस टीम की मदद से सिपाही के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है। खबर है कि ऐसा ही वीडियो बस्ती में भी उसने वायरल किया था जिस पर बस्ती पुलिस ने भी मुकदमा दर्ज किया है।

जानकारी के मुताबिक, कुशीनगर जिले के तरयासुजान के बसडीलामुनाकर निवासी सिपाही दिग्विजय राय बस्ती जिले के कप्तानगंज थाने में तैनात था। तीन और चार दिसंबर 2020 को इसकी ओर से पुलिस लाइंस में अमर्यादित व्यवहार भी किया गया। अधिकारियों के बारे में कई टिप्पणी की थी। सोशल मीडिया पर वीडियो उसने खुद ही अपलोड किया।
10 दिसंबर को वापस आने के बाद आरोपी सिपाही ने पुलिस लाइंस में हंगामा खड़ा कर दिया, कुर्सियां तोड़ी। इसके बाद फिर फेसबुक पर लाइव होकर एक अमर्यादित पोस्ट डाल दी। मामले का संज्ञान लेते हुए एसपी हेमराज मीणा उसे बर्खास्त कर दिया। जिसके बाद दिग्विजय ने कप्तान को जान से मारने की धमकी दे दी।

अधिकारियों के आदेश पर मुकदमा दर्ज कर कप्तानगंज पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेजा था। दो दिन पहले दिग्विजय ने फेसबुक पर लाइव होकर गोरखपुर पुलिस को चैलेंज देते हुए कहा कि शहर में लगातार तीन हत्या करेगा। गोरखपुर पुलिस के अंदर दम है तो रोक ले। 14 फरवरी को मोहद्दीपुर में पहली हत्या करेगा। हत्या किसकी और क्यों करेगा यह वारदात के बाद ही पता चलेगा।

सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद हरकत में आई गोरखपुर पुलिस ने सिपाही की खोजबीन शुरू कर दी। डीआइजी/एसएसपी जोगिंदर कुमार के आदेश पर मोहद्दीपुर चौकी प्रभारी अरविंद सिंह ने बर्खास्त सिपाही के खिलाफ धमकी और आईटी एक्ट का कैंट थाने में केस दर्ज कराया। सीओ कैंट सुमित शुक्ला ने बताया है कि वायरल वीडियो का संज्ञान लेते हुए धमकी देने और आईटी एक्ट में केस दर्ज सिपाही की तलाश की जा रही है।

You missed