विश्व हिदू परिषद के उपाध्यक्ष और श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के बयान पर सधी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा है कि शंकराचार्य अपनी बात रखने के लिए स्वतंत्र हैं। जनता सब जानती है, कौन क्या है। हम अपना काम कर रहे हैं, वह अपना काम। रविवार दोपहर दिल्ली से फोन से हुई बातचीत में चंपत राय ने यह टिप्पणी दी।

माघ मेले में मौनी अमावस्या स्नान पर्व से पूर्व शनिवार को प्रयागराज पहुंचे शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा था कि अयोध्या में भगवान श्रीराम का मंदिर नहीं, विश्व हिंदू परिषद का कार्यालय बन रहा है। विहिप धर्माचार्य संपर्क प्रमुख अशोक तिवारी ने कहा कि शंकराचार्य क्या सोचते हैं, उसके बारे में कुछ नहीं कहना। हम अपना काम पूरी शिद्दत से कर रहे हैं।

हमारा जो लक्ष्य है उसके लिए काम कर रहे हैं। अयोध्या में भव्य मंदिर निर्माण होगा। विश्व हिदू परिषद के पदाधिकारी रविवार को इस बयान पर टिप्पणी देने से बचते रहे। विहिप काशी प्रांत के संगठन मंत्री मुकेश ने भी इतना ही कहा कि वह (स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती) पूज्य संत हैं। उनका सम्मान है। बोले, हम सभी लोग पूज्य संतों के नेतृत्व में ही अयोध्या में श्रीराम का भव्य मंदिर बनवाने के लिए कृत संकल्पित हैं। पूरा देश एकजुट है। 

You missed