सीएम योगी शुक्रवार को गेहूं खरीद 2021-22 संबंधी समय-सारिणी एवं प्रस्तावित क्रय नीति के संबंध में विभागीय अधिकारियों के साथ समीक्षा कर रहे थे. मुख्यमंत्री ने कहा कि गन्ना किसानों की तर्ज पर गेहूं किसानों के लिए भी ऑनलाईन पर्ची की सुविधा मुहैया कराई जाए. नवीन नीति तय करते समय ध्यान रखें कि, ऐसी क्रय एजेंसियां जिनका रिकॉर्ड ठीक नहीं है, उन्हें काम न दिया जाए. भंडारण गोदाम सहित सभी क्रय केंद्रों की जियो टैगिंग कराई जाए. इससे किसानों को सुविधा होगी.

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) ने एक अप्रैल से गेहूं खरीद शुरू करने के निर्देश दिए हैं. मुख्यमंत्री ने कहा है कि किसी भी क्रय केंद्र पर किसानों को समस्या नहीं होनी चाहिए.इसके लिए भंडारण गोदाम हो या क्रय केंद्र, हर जगह गेहूं की सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम किए जाएं. सीएम योगी ने कहा कि, गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष ₹50 की बढ़ोतरी करते हुए गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) ₹1975 प्रति क्विंटल तय किया गया है. प्रत्येक दशा में किसानों को एमएसपी का लाभ मिलना ही चाहिए.

ऑनलाइन पर्ची की मिलेगी सुविधा
सीएम योगी शुक्रवार को गेहूं खरीद 2021-22 संबंधी समय-सारिणी एवं प्रस्तावित क्रय नीति के संबंध में विभागीय अधिकारियों के साथ समीक्षा कर रहे थे. मुख्यमंत्री ने कहा कि गन्ना किसानों की तर्ज पर गेहूं किसानों के लिए भी ऑनलाईन पर्ची की सुविधा मुहैया कराई जाए. नवीन नीति तय करते समय ध्यान रखें कि, ऐसी क्रय एजेंसियां जिनका रिकॉर्ड ठीक नहीं है, उन्हें काम न दिया जाए. भंडारण गोदाम सहित सभी क्रय केंद्रों की जियो टैगिंग कराई जाए. इससे किसानों को सुविधा होगी.

You missed