गणतंत्र दिवस के मौके पर किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा के बाद दिल्ली की सीमाओं पर हलचल तेज हो गई है। गाजीपुर बॉर्डर पर गुरुवार देर रात तक हलचल बनी रही। तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले दो महीने से दिल्ली की विभिन्न सीमाओं पर चल रहे आंदोलन के बीच गुरुवार को गाजीपुर बॉर्डर पर कई घंटे तक हाई-वोल्टेज ड्रामा चला। यूपी सरकार ने आंदोलन खत्म कराने का आदेश दिया है, मगगर भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत प्रदर्शन जारी रखने पर अड़े हैं। टिकैत ने भावुक होते हुए कहा कि वे आत्महत्या कर लेंगे, लेकिन आंदोलन खत्म नहीं करेंगे। इधर, गुरुवार रात से ही बड़ी संख्या में किसान धरनास्थल पर जुटना शुरू हो गए हैं। आज मुजफ्फरनगर में सुबह पंचायत भी बुलाई गई है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कई जिलों से देर रात में किसानों ने दिल्ली की तरफ कूच करना शुरू किया। तो चलिए जानते हैं किसान आंदोलन से जुड़े सभी लेटेस्ट अपडेट्स…Fri, 29 Jan 2021 8:12 AM IST

गाजीपुर बॉर्डर बंद

दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने बताया कि आज गाजीपुर बॉर्डर बंद है। ट्रैफिक को एनएच 24, एनएच 9, रोड नंबर 56, 57 ए, कोंडली, पेपर मार्केट, टेल्को टी पॉइंट, ईडीएम मॉल, अक्षरधाम और निजामुद्दीन खट्टा से डायवर्ट किया गया है। इलाके और विकास मार्ग में ट्रैफिक बहुत ज्यादा है।

गाजीपुर बॉर्डर पर आज सुबह का नजारा

गाजीपुर बॉर्डर पर सुबह-सुबह दिखा किसानों में जोश। प्रदर्शनकारी किसानों ने ‘जय जवान, जय किसान, इंकलाब जिंदाबाद’ के नारे लगाए।

पुलिस पीछे हटी

राकेश टिकैत अड़े हुए हैं, जिसका नतीजा यह है कि पुलिस को पीछे हटना पड़ा। देर रात पुलिस और रैपिड एक्शन फोर्स जिन गाड़ियों से वहां पहुंची थी, उन्हीं गाड़ियों से उन्हें वापस लौटना पड़ा। बता दें कि शाम से ही गाजीपुर बॉर्डर पर तनाव सा माहौल था। ऐसा लग रहा था कि कल की रात कुछ भी हो सकता था। मगर आसपास के इलाकों से किसानों के कूच करने की खबर ने आंदोलन को बल दिया और पुलिस को पीछे हटना पड़ा। आंदोलन स्थल पर किसानों का आना लगातार जारी है। 

बाबा टिकैत का एक-एक सिपाही दिल्ली कूच करे- नरेश

नरेश टिकैत ने किसानों से किया दिल्ली कूच करने का आह्वान।

राकेश के आंसू व्यर्थ नहीं जाएंगे- नरेश

नरेश टिकैत ने राकेश टिकैत के रोता हुआ विडियो ट्वीट कर कहा है कि उनके ये आंसू व्यर्थ नहीं जाएंगे। नरेश ने ट्वीट करके कहा, ‘चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत के बेटे और मेरे छोटे भाई राकेश टिकैत के ये आंसू व्यर्थ नहीं जाएंगे। सुबह महापंचायत होगी और अब हम इस आंदोलन को निर्णायक स्थिति तक पहुंचा कर ही दम लेंगे।’

किसान आंदोलन को फिर पार्टियों का समर्थन

लंबे समय से आंदोलन कर रहे किसानों को एक बार फिर से कांग्रेस, आरएलडी समेत कई दलों के नेताओं का समर्थन मिला। टिकैत के रोते हुए वीडियो को देखने के बाद आरएलडी मुखिया चौधरी अजित सिंह भी साथ आ गए। उन्होंने  टिकैत और भाकियू अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत से बात की। रात में करीब पौने आठ बजे के बाद जयंत चौधरी ने ट्वीट करके जानकारी दी। जयंत चौधरी ने कहा कि चिंता मत करो, किसान के लिए जीवन मरण का प्रश्न है। सबको एक होना है, साथ रहना है। यह संदेश चौधरी साहब ने दिया है। वहीं, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरुवार शाम ट्विटर पर कहा कि यह साइड चुनने का समय है। मेरा फैसला साफ है। मैं लोकतंत्र के साथ हूं, मैं किसानों और उनके शांतिपूर्ण आंदोलन के साथ हूं।, 29 Jan 2

मुजफ्फरनगर में महापंचायत आज

ट्रैक्टर परेड के दौरान हिंसा के बाद अब आंदोलन एक अलग रंग लेता दिख रहा है। एक ओर जहां पुलिस की सख्ती है तो दूसरी ओर किसानों ने जोर आजमाइश तेज कर दी है। मेरठ के सिसौली में नरेश टिकैत ने पंचायत कर आसपास के किसानों से गाजीपुर बॉर्डर पहुंचने का अह्वान किया। उन्होंने किसानों की शुक्रवार सुबह 11 बजे मुजफ्फरनगर के राजकीय इंटर कॉलेज में पंचायत बुलाई है।