राम स्वरूप और उनके घरवाले जग गउ। चोरों की घेराबंदी कर ली। शोर सुनकर आस-पड़ोस के लोग भी आ गए। लोगों ने घेराबंदी कर घर में घुसे चोर गिरोह के शाहिद पुत्र साबिर निवासी हाथी पार्क मड़ैया को दबोच लिया, जबकि उसका साथी एवं गैंग लीडर भाग निकला। मुहल्ले वालों ने शाहिद को पकड़कर पीटा और पुलिस को सौंप दिया। इंस्पेक्टर वजीरगंज ने बताया कि गैंग लीडर की तलाश में दबिश दी जा रही है।

15 दिन पहले रची थी साजिश 

गृह स्वामी राम स्वरूप ने बताया कि चोरी के दौरान शाहिद के पकड़े जाने पर वह उसका चेहरा देखते ही पहचान गए। क्योंकि वह पिछले कई दिनों से मुहल्ले में टहल रहा था। पूछताछ में शाहिद ने बताया कि मुहल्ले में आठ-दस कुत्ते और उनके पिल्ले थे। वह मुहल्ले में कई दिनों से घरों की रेकी कर रहा था। उसे यह भी पता था कि रविवार को राम स्वरूप का बेटा घर नहीं आता था। उसने राम स्वरूप का घर ही चोरी करने के लिए चिन्‍ह‍ित किया। रेकी के दौरान शाहिद ने देखा कि लोग मुहल्ले में कुत्तों को देर रात तक खाना खिलाते रहते हैं। इस कारण रात में वह वारदात नहीं कर पाएगा। देर रात कुत्ते भौंकते भी बहुत हैं। इसलिए उसने पहले कुत्तों को जहर देकर मार दिया। इसके बाद साथी के साथ राम स्वरूप के घर चोरी करने पहुंच गया।