मुजफ्फरनगर। सिविल लाइन थानाक्षेत्र के घासमंडी में बन रहे नकली प्रोटीन की सप्लाई देश के कई हिस्सों में हो रही थी। पुलिस ब्रांडेड कंपनियों के नाम पर नकली प्रोटीन बनवाकर खरीदने वालों पर भी शिकंजा कसने में जुट गई है। इसके अलावा शहर में नकली प्रोटीन की खपत कहां-कहां हो रही थी, पुलिस इसकी जांच में भी जुटी है।

एसएसपी अभिषेक यादव ने बताया कि नकली प्रोटीन की सप्लाई महाराष्ट्र के नागपुर, यूपी के लखनऊ और हरियाणा के यमुनानगर समेत कई स्थानों पर की जा रही थी। गोरखधंधे में शामिल लोग यहां से नकली प्रोटीन बनवाकर उक्त शहरों में ब्रांडेड कंपनी का रैपर लगाकर उसकी सप्लाई कर रहे थे। खरीददार ब्रांडेड कंपनी के डिब्बों की नकल पर डिब्बे बनवाते हैं और नकली प्रोटीन भरकर उसे बेचते हैं। पुलिस ने नकली प्रोटीन की खरीद करने वालों की भी जांच शुरू कर दी है। शीघ्र ही एक टीम उक्त शहरों में भेजकर मामले की जांच होगी। इसके अलावा जिले में नकली प्रोटीन की खपत कहां-कहां हो रही थी, पुलिस इसकी जांच में भी जुटी है। नकली सप्लीमेंट का सेवन करने से हो सकती है मौत

विशेषज्ञों की मानें तो बाडी बिल्डिग के शौकीन युवा अगर इस नकली प्रोटीन का सेवन करते हैं तो धीरे-धीरे उनके शरीर के महत्वपूर्ण अंग खराब होने शुरू हो जाते हैं। इतना ही नहीं लगातार सेवन करने से उनकी मौत भी हो सकती है। लगेगा गैंगस्टर, संपत्ति होगी कुर्क : एसएसपी

एसएसपी अभिषेक यादव का कहना है कि युवाओं के स्वास्थ्य से खिलवाड़ करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। दबोचे गए आरोपितों और इस धंधे में शामिल अन्य लोगों के खिलाफ गैंगस्टर की कार्रवाई कर उनकी संपत्ति जब्त की जाएगी।