महोबा कांड में विजिलेंस की जांच में एक बड़ा खुलासा हुआ है। आरोपी आईपीएस मणिलाल पाटीदार ने लखनऊ के एक ट्रांसपोर्टर से सिपाही के जरिये दो लाख रुपये की उगाही मांगी थी। रकम न देने पर पाटीदार के इशारे पर पुलिस ने ट्रांसपोर्टर के कई डंपरों को सीज कर बंद करवा दिया था। विजिलेंस ने इस संबंध में भी अहम साक्ष्य जुटा लिए हैं। 

 विज्ञापनइंद्रकांत त्रिपाठी (मृतक कारोबारी) आईपीएस मणिलाल पाटीदार2 of 6इंद्रकांत त्रिपाठी (मृतक कारोबारी) आईपीएस मणिलाल पाटीदार – फोटो : amar ujalaमहोबा के कबरई में सात सितंबर को क्रशर कारोबाीर इंद्रकांत त्रिपाठी ने वीडियो वायरल कर तत्कालीन महोबा एसपी आईपीएस मणिलाल पाटीदार पर उगाही का आरोप लगाया था। ये भी कहा था कि अगर उनकी हत्या होती है तो मणिलाल ही जिम्मेदार होंगे। दूसरे दिन वो कार में खून से लथपथ मिले थे। गले में उनके गोली लगी थी।

इंद्रकांत त्रिपाठी (फाइल फोटो)3 of 6इंद्रकांत त्रिपाठी (फाइल फोटो) – फोटो : amar ujala13 सितंबर को इंद्रकांत की मौत हो गई थी। उगाही के मामले की जांच कानपुर की विजिलेंस यूनिट को दी गई है। जांच के दौरान एक नया मामला संज्ञान में आया। सूत्रों के मुताबिक लखनऊ के एक ट्रांसपोर्टर (पांडेय) के कई डंपर कबरई में चलते हैं। जो खदानों व क्रशर पर लगे हुए हैं।

इंद्रकांत त्रिपाठी हत्याकांड4 of 6इंद्रकांत त्रिपाठी हत्याकांड – फोटो : अमर उजालाजब मणिलाल पाटीदार एसपी थे तो एक सिपाही ने ट्रांसपोर्टर से संपर्क कर उससे दो लाख की उगाही मांगी थी। उसने कहा था कि रकम एसपी को देनी है। जब ट्रांसपोर्टर ने रकम देने से मना कर दिया तो उसके कुछ ही दिन बाद उसके एक के बाद एक कई ट्रकों को जब्त करवा लिया। विजिलेंस को ये अहम तथ्य मिला है। जांच में इसको शामिल कर लिया है। 

इंद्रकांत त्रिपाठी हत्याकांड5 of 6इंद्रकांत त्रिपाठी हत्याकांड – फोटो : अमर उजालासीडीआर में बातचीत के सुबूत 
ट्रांसपोर्टर ने विजिलेंस से इस मामले की शिकायत की है। विजिलेंस ने उनको बयान के लिए बुलाया है। सूत्रों के मुताबिक इन सभी की जब सीडीआर निकाली गई तो पता चला कि सिपाही ने एक बार कई बार ट्रांसपोर्टर को कॉल की। ये कॉल केवल रकम लेने के लिए ही की गई। इसका सबसे बड़ा कारण ये है कि सिपाही का ट्रांसपोर्टर से और कोई मतलब नहीं है। तो वो कॉल क्यों कर रहा था। सूत्रों का कहना है कि कुछ कॉल रिकॉर्डिंग भी मिली हैं। जिसकी फोरेंसिक जांच कराई जाएगी। 

इंद्रकांत त्रिपाठी6 of 6इंद्रकांत त्रिपाठी – फोटो : अमर उजालाएसपी दफ्तर में डील करने को बुलाया
सिपाही ने ट्रांसपोर्टर को एसपी के दफ्तार भी बुलाया था। सूत्रों के मुताबिक ट्रांसपोर्टर वहां गए भी थे। ये भी जानकारी मिली है कि एसपी मणिलाल पाटीदार से ट्रांसपोर्टर की सिपाही ने मुलाकात भी कराई थी। इसकी पुष्टि भी सीडीआर से जांच टीम करेगी। कुलमिलाकर एसपी के खिलाफ भ्रष्टाचार और उगाही के तमाम अहम तथ्य शुरुआती जांच में मिले हैं। बाकी जांच जारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *