Focus Times

योगी कैबिनेट ने किया सलाम : सेना व अर्धसैनिक बल के शहीदों की सहायता राशि में दोगुनी बढ़ोतरी

Yogi Adityanath Cabinet Meeting योगी आदित्यनाथ सरकार ने शहीद होने वाले ऐसे जवानों परिवारों को दी जाने वाली अनुग्रह आर्थिक मदद को 25 लाख से दोगुना कर पचास लाख रुपये कर दिया है।

 उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ गरीब, किसान, श्रमिक व कामगारों के साथ ही सैनिक तथा अर्धसैनिक बल के जवानों की मदद करने में सदैव आगे बढ़कर काम कर रही है। सीएम योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में कैबिनेट ने सैनिकों के हितकारी प्रस्ताव को सहर्ष मंजूरी दी।

जय जवान, जय किसान के नारे पर पहले भी फैसले लेती रही योगी सरकार ने प्रदेश के मूल निवासी सैन्य और अर्धसैनिकों जवानों के लिए अहम फैसला किया है। सरकार ने शहीद होने वाले ऐसे जवानों परिवारों को दी जाने वाली अनुग्रह आर्थिक मदद को 25 लाख से दोगुना कर पचास लाख रुपये कर दिया है। यह प्रस्ताव मंगलवार को कैबिनेट की बैठक में स्वीकृति हो गया।

सरकार ने तय किया है कि केंद्रीय अर्ध सैन्य बलों, प्रदेशों के अद्र्ध सैन्य बलों और भारतीय सेना के (तीनों अंगो- थल, जल एवं वायु) के उत्तर प्रदेश के मूल निवासी जवान के शहीद होने पर उनके परिवार को 50 लाख रुपये की अनुग्रह आर्थिक सहायता दी जाएगी। इसमें शर्त है कि उनका परिवार भी प्रदेश में ही निवास करता हो। यदि शहीद विवाहित हों और उनके माता-पिता में से एक या दोनों जीवित हैं तो शहीद की पत्नी और बच्चों को 35 लाख रुपये, जबकि माता-पिता या उनमें से जीवित को 15 लाख रुपये मिलेंगे।  

शहीद के विवाहित होने और माता-पिता में से किसी एक के भी जीवित नहीं होने की स्थिति में शहीद की पत्नी को कुल 50 लाख रुपये की धनराशि दी जाएगी। शहीद के अविवाहित होने पर माता-पिता या उनमें से जीवित को कुल 50 लाख रुपये दिए जाएंगे। सरकार का फैसला है कि धनराशि वितरण की निर्धारित सीमाओं में विशेष परिस्थितियों में आवश्यकतानुसार छूट दी जा सकती है लेकिन, निर्धारित सीमाओं में किसी प्रकार की छूट से पहले गृह विभाग से उच्चादेश लेना जरूरी होगा। यह निर्णय एक अप्रैल, 2020 से प्रभावी होगा।

कैबिनेट के यह भी फैसले

गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे पर ईपीसी पद्धति से होगा काम : सभी एक्सप्रेसवे के निर्माण को लेकर सरकार गंभीर है। पुरानी प्रक्रिया के तहत कुछ तकनीकी कारणों से अधिग्रहीत भूमि पर भी काम नहीं हो पा रहा था। अब निर्णय हुआ है कि अधिग्रहीत करीब 38 किलोमीटर की भूमि पर काम शुरू कर दिया जाएगा। इसमें लगभग 1200 श्रमिकों को रोजगार मिलेगा, जबकि शेष जमीन का अधिग्रहण 182 दिनों में कर लिया जाएगा।

पूर्वांचल एक्सप्रेसवे पर निर्माण के साथ होता जााएगा भुगतान : पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का निर्माण समय से पूरा करने के लिए कॉन्ट्रैक्ट प्राइस वेटेज के शेड्यूल-एच में संशोधन किया गया है। उदाहरण के तौर पर अब तक निश्चित काम करने के बाद ही ठेकेदार को पैसे का भुगतान होता था, जबकि अब काम के साथ भुगतान होता चलेगा। जैसे कि एक किलोमीटर एक्सप्रेसवे का काम होते ही उसका भुगतान कर दिया जाएगा। यह व्यवस्था आठ महीने के लिए ही लागू रहेगी। इसके पीछे सरकार की सोच है कि लॉकडाउन से काम प्रभावित हुआ है और ठेकेदारों को श्रमिक मिलने में भी परेशानी हो सकती है। काम होता जाएगा तो श्रमिकों को रोजगार भी मिलता रहेगा।

सुल्तानपुर के हलियापुर-कुड़ेभार रोड के लिए बढ़ा बजट : एशियन विकास बैंक वित्त पोषित उत्तर प्रदेश जिला मार्ग विकास परियोजना के तहत सुल्तानपुर में हलियापुर-कुड़ेभार मार्ग का उच्चीकरण होना है। पहले इसके लिए 387.14 करोड़ का एस्टीमेट बना था। अब इसे पुनरीक्षित कर 459.46 करोड़ रुपये कर दिया गया है। इसे कैबिनेट ने अनुमोदित कर दिया।

MP के CM शिवराज सिंह चौहान बोले, राज्यपाल लालजी टंडन जल्द स्वस्थ होकर मंत्रिमंडल विस्तार में दिलाएंगे शपथ

 

राजधानी के मेदांता अस्पताल में भर्ती मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन का हालचाल जानने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मंगलवार शाम करीब पौने पांच बजे आइसीयू पहुंचे। वहां वे राज्यपाल से मिले और उनका इलाज कर रही डॉक्टरों की टीम से उनकी तबीयत के बारे में जानकारी ली। 

इसके बाद मीडिया से मुखातिब शिवराज ने कहा कि राज्यपाल से मिलकर आ रहा हूं। मैं उन्हें सम्मान से बाबूजी कहता रहा हूं। मेदांता में उन्हेंं विश्वस्तरीय इलाज मिल रहा है। इलाज की जो व्यवस्था है, उससे मैं पूरी तरह संतुष्ट हूं। मुझे पूरा विश्वास है कि वह जल्द स्वस्थ होंगे और हमारे मंत्रिमंडल का जो विस्तार होना है, उसमें मंत्रियों को शपथ भी दिलाएंगे। हालांकि, उन्होंने राज्यपाल की तबीयत के बारे में कुछ नहीं बताया। लालजी टंडन को 11 जून को लिवर, किडनी व फेफड़े में दिक्कत होने के चलते मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

अस्पताल प्रशासन के मुताबिक उनका इमरजेंसी ऑपरेशन किया गया था। इसके बाद उन्हें आइसीयू में भर्ती किया गया। उनकी डायलिसिस भी की जा रही है। पेशाब में जलन के साथ उन्हें सांस लेने में तकलीफ व बुखार भी था। फिलहाल, वे वेंटिलेटर पर हैं। अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर डॉक्टर राकेश कपूर ने बताया कि क्रिटिकल केयर विभाग के चिकित्सा विशेषज्ञों की टीम उनकी निगरानी कर रही है। लिवर की जांच के लिए सीटी गाइडेड प्रोसीजर किया गया था। मगर रक्त पेट में इकट्ठा होने लगा था। इसके बाद डॉक्टरों ने ब्लीडिंग बंद की फिर आइसीयू में रख लिया गया। फिलहाल, उनकी हालत स्थिर है। शिवराज के साथ मध्य प्रदेश भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा, प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत समेत अन्य नेता मौजूद रहे। सभी विशेष विमान से राजधानी पहुंचे थे।

गौरतलब है कि इन दिनों मध्य प्रदेश में भाजपा तथा कांग्रेस के बीच ऑडियो-वीडियो पर जारी सियासी घमासान जारी है। ऑडियो क्लिप पर जारी घमासान के बीच शिवराज ने ट्वीट कर कहा है कि पापियों का विनाश तो पुण्य का काम है। इंदौर में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के इंदौर यात्रा के दौरान के भाषण का ऑडियो और वीडियो वायरल होने के मामले में सियासी घमासान शुरू हो गया है। कांग्रेस ने आरोप लगाया कि शिवराज सिंह ने केंद्रीय नेतृृत्व के निर्देश पर सरकार गिराने की बात कही है। कांग्रेस इस मामले में सुप्रीम कोर्ट की शरण लेगी। पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने आरोप लगाया कि भाजपा ने साजिश रच कांग्रेस की बहुमत की सरकार गिराई है। ऐसे में सीएम शिवराज सिंह चौहान ने इसे लेकर ट्वीट किया है। ऑडियो क्लिप पर जारी घमासान के बीच शिवराज ने ट्वीट कर कहा है कि पापियों का विनाश तो पुण्य का काम है।

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close